Chhattisgarh cabinet छत्तीसगढ मंत्रिमंडल विस्तार,  छग में नौ विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

Chhattisgarh cabinet रायपुर – छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार बनने के बाद आज सीएम विष्णुदेव के नये मंत्रिमंडल में नौ विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली राजभवन में राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन ने नौ विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई। मंत्रिमंडल में पुराने के साथ नये चेहरों को भी मौका दिया गया है। संवैधानिक व्यवस्था के मुताबिक छत्तीसगढ़ में सीएम समेत अधिकतम तेरह मंत्री हो सकते हैं। वर्तमान में साय कैबिनेट में तीन सदस्य हैं। इसमें मुख्यमंत्री साय और दो डिप्टी सीएम अरुण साव और विजय शर्मा शामिल हैं , जिन्होंने राज्य में बीजेपी का सरकार बनने के बाद तेरह दिसंबर को शपथ ली थी। साय मंत्रिमंडल का संक्षिप्त परिचय निम्न हैं-

बृजमोहन अग्रवाल

रायपुर दक्षिण से विधायक बृजमोहन अग्रवाल आठवीं बार विधायक निर्वाचित हुये हैं। ये अविभाजित मध्यप्रदेश में पटवा सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं , इसके बाद इन्होंने रमन सरकार के तीनों कार्यकाल में मंत्री पद की जिम्मेदारी सम्हाली थी। इस चुनाव में उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी महंत रामसुंदर दास को 67,919 वोटों से हराया। भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल का जन्म एक मई 1959 को रायपुर में हुआ। कॉमर्स और आर्ट्स दोनों विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन करने वाले बृजमोहन अग्रवाल ने एलएलबी की डिग्री भी हासिल की है।

रामविचार नेताम

लगातार छठवीं बार विधायक निर्वाचित हुये भाजपा के कद्दावर नेता रामविचार नेताम ने मंत्री पद की शपथ ली। बलरामपुर के ग्राम सनावल के रहने वाले राम विचार नेताम राज्यसभा के सदस्य और भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे हैं। भाजपा ने उन्हें रामानुजगंज विधानसभा सीट से मैदान में उतारा था। उन्होंने कांग्रेस के डा. अजय तिर्की को हराया। नेताम वर्ष 1990 से लगातार छठवीं बार विधायक चुने गये हैं।

Chhattisgarh cabinet छत्तीसगढ मंत्रिमंडल विस्तार,

 

केदार कश्यप

नारायणपुर विधानसभा सीट से चुने गये विधायक केदार कश्यप ने विष्णुदेव साय मंत्रिमंडल में शपथ ग्रहण की। छात्र जीवन से ही केदार कश्यप राजनीति में सक्रिय हैं। वे कद्दावर आदिवासी नेता और पूर्व सांसद स्व. बलीराम कश्यप के बेटे हैं। उनका जन्म पांच नवंबर 1974 को हुआ। बस्तर जिले के भानपुरी के गांव फरसागुड़ा के रहने वाले केदार कश्यप भाजयुमो के प्रदेश उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। केदार कश्यप वर्ष 2003 में पहली बार विधायक चुने गये। वर्ष 2008 में दूसरी और वर्ष 2013 में तीसरी बार विधायक बने।

Read Also This :- HEALTH TIPS IN HINDI :- दैनिक जीवन शैली में करें बदलाब, नहीं जाना पड़ेगा डॉक्टर के पास

दयालदास बघेल

नवागढ़ विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी गुरु रुद्र कुमार को हराकर दयालदास बघेल एक बार फिर विधानसभा में पहुंचे हैं। सरपंच के पद से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने वाले दयालदास बघेल ने विष्णुदेव साय मंत्रिमंडल में मंत्री पद की शपथ ली। बघेल ग्राम पंचायत कुरा के सरपंच भी रहे हैं। वर्ष 2003 में नवागढ़ विधानसभा सीट से बघेल पहली बार विधायक चुने गये थे। वर्ष 2008 और 2013 में भी वे विधायक बने। रमन सिंह सरकार में बघेल वाणिज्य, उद्योग , सहकारिता संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री भी रह चुके हैं।

लखन लाल देवांगन

कोरबा जिले की कोरबा विधानसभा सीट से लखन लाल देवांगन विधायक निर्वाचित हुये हैं। उन्होंने कांग्रेस के तीन बार के विधायक और दिग्गज मंत्री जयसिंह अग्रवाल को 26,790 वोटों से मात दी थी। लखनलाल देवांगन दो बार भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रह चुके हैं। कटघोरा विधानसभा सीट से विधायक और कोरबा निगम के महापौर भी रह चुके हैं। लखन लाल का जन्म 12 अप्रैल 1962 को कोरबा में हुआ , इन्होंने बीए प्रथम वर्ष तक की शिक्षा हासलु की है।

Chhattisgarh cabinet छत्तीसगढ मंत्रिमंडल विस्तार,

श्याम बिहारी जायसवाल

सरगुजा संभाग के मनेन्द्रगढ़ विधानसभा सीट से दूसरी बार विधायक निर्वाचित हुये विधायक श्याम बिहारी जायसवाल ने शपथ ली। जायसवाल पहले में जिला पंचायत खड़गवां के अध्यक्ष भी रहे हैं। श्याम बिहारी जायसवाल भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं। वर्ष 2013 के चुनाव में वे पहली बार विधायक चुने गये थे।

ओ०पी०चौधरी

रायगढ़ से भाजपा विधायक और पूर्व आईएएस अधिकारी ओपी चौधरी ने मंत्री पद की शपथ ली। ओपी चौधरी प्रशासनिक कौशल में माहिर हैं और पहली बार ही विधायक निर्वाचित हुये हैं। वर्ष 2018 में आईएएस अधिकारी के पद से इस्तीफा देकर उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली थी।

लक्ष्मी राजवाड़े

विष्णुदेव साय मंत्रिमंडल के गठन में आठवें नंबर पर विधायक लक्ष्मी राजवाड़े ने मंत्री पद की शपथ ली। लक्ष्मी पहली बार विधायक चुनी गई हैं। विष्णुदेव साय के मंत्रिमंडल में सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री हैं। भटगांव विधानसभा सीट से महिला मोर्चा से अपनी राजनीति की शुरुआत करने वाली लक्ष्मी राजवाड़े ने कांग्रेस से दो बार के विधायक रहे पारस नाथ राजवाड़े को करीब 44 हजार मतों से हराया था।

टंकराम वर्मा

विधायक टंकराम वर्मा ने भी मंत्री पद की शपथ ली। ये बलौदाबाजार सीट से पहली बार चुनाव जीतकर आए हैं। मंत्री बनने वाले टंकराम वर्मा ने शिक्षक की नौकरी छोड़ राजनीति में एंट्री की थी। टंकराम वर्मा ने एलएलबी की हुई है। वे सबसे पहले तिल्दा से जिला पंचायत सदस्य चुने गये थे , इसके बाद रायपुर जिला पंचायत में उपाध्यक्ष भी रहे। ये पिछले तीस वर्षों से सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में सक्रिय हैं।

Leave a comment