Heatwave alert : फलोदी बना देश का सबसे गर्म शहर, तापमान 51 डिग्री, Heat stroke से 60 से अधिक मौतें

Heatwave alert in india | Heat stroke |  नई दिल्ली  : नौतपा के आज तीसरे दिन राजस्थान के फलोदी में देश का सबसे अधिक तापमान दर्ज किया गया। पहले दिन यहां तापमान 50 डिग्री और दूसरे दिन 51 डिग्री रहा। जम्मू में तापमान 42 डिग्री और हिमाचल के ऊना में 44.4 डिग्री तक पहुंच गया। देश के अधिकांश क्षेत्रों में आसमान से आग बर्ष रही है । भारत के उत्तर भाग में निरंतर तापमान बढ़ता जा रहा है । देश के कई भागों में भारतीय मौसम विभाग द्वारा रेड अलर्ट जारी किया गया ।

Heat stroke से दिन प्रति दिन हो रहै है मौत 

सोमवार को जैसलमेर में भारत-पाक सीमा पर तैनात बीएसएफ जवान की लू लगने से मौत हो गई। अजमेर के केकड़ी में भी 80 साल के बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। राजस्थान में 4 दिन में गर्मी से मरने वालों की संख्या 27 हो चुकी है। बिहार में भी नगालैंड के जवान की Heat stroke से मौत हुई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत नेशनल सेंटर ऑफ डिजीज कंट्रोल ( NCDC ) द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के मुताबिक, एक मार्च से अब तक देश में Heat stroke के 16 हजार से अधिक मामले रिपोर्ट किए गए हैं, जबकि 60 से अधिक लोगों की मौत हुई है। उच्च तापमान का सेहत पर गंभीर दुष्प्रभाव हो सकता है, जो मस्तिष्क की समस्याओं से लेकर किडनी और लिवर फेलियर तक के जोखिमों को बढ़ा सकता है।

इन राज्यों में भीषण Heatwave alert जारी 

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर सहित देश के कई राज्यों में बढ़ता तापमान चिंताजनक है। मौसम विभाग ने अगले दो दिन के लिए राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश में भीषण हीटवेव का रेड अलर्ट जारी किया है, जबकि मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात के अलग-अलग इलाकों में हीटवेव का यलो अलर्ट जारी किया गया है। राजधानी दिल्ली के कई इलाकों में पारा 48 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया है। मौसम विभाग ने बुधवार तक यहां लू को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि बढ़ता तापमान सेहत के लिए कई प्रकार से हानिकारक हो सकता है, जिसके जानलेवा दुष्प्रभावों का भी खतरा रहता है। इसलिए सभी लोगों को लू से बचाव के लिए अलर्ट रहना चाहिए।

बुजुर्गों और छोटे बच्चों को अधिक खतरा

लू-गर्मी के दुष्प्रभावों से बचने के लिए बुजुर्गों और छोटे बच्चों को लंबे समय तक धूप में रहने से बचना चाहिए। इससे शरीर में पानी की कमी और हीटस्ट्रोक का जोखिम बढ़ जाता है। आपातकालीन चिकित्सा विभाग में गर्मी से संबंधित समस्याओं वाले रोगियों में 30-40% की वृद्धि देखी जा रही है, जिनमें से अधिकांश मरीज बुजुर्ग या क्रोनिक श्वसन, हृदय और किडनी की बीमारियों से ग्रस्त हैं। स्वास्थ्य जोखिमों से बचे रहने के लिए धूप के अधिक संपर्क में न आएं और खूब पानी पीते रहें।

डिहाइड्रेशन के कारण बढ़ सकती हैं दिक्कतें

नोएडा स्थित एक अस्पताल में इंटरनल मेडिसिन के डॉक्टर ने बताते हैं कि धूप के अधिक संपर्क में रहने वाले लोगों में डिहाइड्रेशन (पानी की कमी या निर्जलीकरण) सबसे आम परेशानी है। शुरुआत में पानी की कमी होने के कारण मुंह सूखने, कमजोरी और रक्तचाप कम होने जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। शरीर से पसीने के जरिए ज्यादा पानी निकल जाने पर एक्यूट किडनी इंजरी और लिवर से संबंधित जटिलताओं का खतरा भी हो सकता है।

Read this :- REALME GT 6T : BEST 5G स्मार्टफोन जो 2024 में लॉन्च हुआ ।

Read this :- POCO F6 PRO भारत में लॉन्च होने वाला है, जानें PRICE & SPECIFICATIONS 5000MAH बैटरी

Read this also : IPL 2024 Point Table live

Leave a comment