Mohini Ekadashi 2024 | जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि मोहिनी एकादशी व्रत की

Mohini Ekadashi 2024 Katha : मोहिनी एकादशी का व्रत वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान श्री विष्णु के लिए किया जाता है। । हिन्दू कलैंडर ने अनुसार वैशाख शुक्ल एकादशी तिथि 18 मई को प्रातः 11:23 बजे से प्रारंभ होकर और 19 मई, रविवार को दोपहर 01:50 बजे इस व्रत का समापन होगा । उदयातिथि के आधार पर मोहिनी एकादशी व्रत 19 मई, 2024 को रखा जाएगा। एकादशी सभी पापों को हरने वाली उत्तम तिथि है। इस दिन जगत के पालनहार श्री विष्णुजी की उपासना करनी चाहिए।

मोहिनी एकादशी का महत्व

भगवान श्री कृष्ण, महाभारत के दौरान पांडवों के भाई युधिष्ठिर को मोहिनी एकादशी व्रत के महत्व समझाते हुए कहते हैं कि महाराज ! त्रेता युग में महर्षि वशिष्ठ के कहने पर परम प्रतापी श्री राम ने इस व्रत को किया। यह व्रत सभी प्रकार के दुखों का निवारण करने वाला और सभी पापों को हरने वाला उत्तम व्रत है। इस व्रत के प्रभाव से मनुष्य मोहजाल और पातक समूह से छुटकारा पाकर विष्णुलोक को जाते हैं। मोहिनी एकादशी के व्रत के प्रभाव से शत्रुओं से छुटकारा मिलता है। इस दिन भगवान विष्णु के अवतार प्रभु श्री राम और विष्णुजी के मोहिनी स्वरूप का पूजन-अर्चन किया जाता है।

Read Also this | IPL 2024 Point Table live

मोहिनी एकादशी की पूजाविधि

एकादशी तिथि पर सुबह जल्दी उठकर स्नान करके सूर्यदेव को जल अर्घ्य दें। भगवान विष्णु के मोहिनी स्वरूप का मन में ध्यान करते हुए रोली, मोली, पीला चंदन, अक्षत, पीले पुष्प, ऋतुफल, मिष्ठान आदि भगवान विष्णु को अर्पित करें। फिर धूप-दीप से श्री हरि की आरती उतारें और मोहिनी एकादशी की कथा पढ़ें। इस दिन ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जप और विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना बहुत फलदायी है। इस दिन भक्तों को परनिंदा, छल-कपट, लालच, द्वेष की भावनाओं से दूर रहकर, श्री नारायण का ध्यान करते हुए भक्तिभाव से भजन करना चाहिए। द्वादशी के दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाने के बाद स्वयं भोजन करें।

इसलिए लिया भगवान ने मोहिनी रूप

वेद पुराण और शास्त्रों के अनुसार, मोहिनी भगवान श्री विष्णु का समुद्रमंथन के दौरान अवतरित रूप था । समुद्र मंथन के समय जब अमृत कलश निकला, तो इस बात पर विवाद हुआ कि राक्षसों और देवताओं के बीच अमृत का कलश कौन सेवन करेगा । इस विकट समस्या को लेकर सभी देवताओं ने भगवान विष्णु से सहायता मांगी। अमृत के कलश से राक्षसों का ध्यान भटकाने के लिए मोहिनी नामक एक सुंदर स्त्री के रूप में विष्णु भगवान प्रकट हुए। इस प्रकार, सभी देवताओं ने भगवान विष्णु की सहायता से अमृत का सेवन किया। यह शुभ दिन वैशाख शुक्ल एकादशी का था, इसलिए इस दिन को मोहिनी एकादशी के रूप में मनाया जाता है। यह वही व्रत है जिसे राजा युधिष्ठिर और भगवान श्रीराम ने रखा था।

Read this :- TODAY SHARE MARKET | NIFTY 50 : विशेष कारोबारी सत्र में तेजी के साथ बंद हुआ SHARE MARKET

Leave a comment